National Journal of Multidisciplinary Research and Development

National Journal of Multidisciplinary Research and Development


National Journal of Multidisciplinary Research and Development
National Journal of Multidisciplinary Research and Development
Vol. 6, Issue 2 (2021)

राजिंदर सिंह बेदी विरचित ‘क्वारंटीन’ कहानी का पुनर्पाठ


चेतन विष्णु रवेलिया

समाज और साहित्य का घनिष्ट संबंध है| समाज ही वह जीवन रस है जिससे साहित्यरूपी बेल फलती – फूलती है| इस समाज में मानव की विभिन्न समस्याओं, उसके अस्तित्व, चिंताओं को सदैव साहित्य में जगह मिलती रही है| वर्तमान दौर में समूचा विश्व अभूतपूर्व महामारी ‘कोरोना’ से जूझ रहा है| इस महामारी से त्रस्त समाज और मानवजाति की त्रासदी को साहित्य में आज भी अभिव्यक्ति मिल रही है| इसी वर्तमान संदर्भ में उर्दू के प्रसिद्ध रचनाकार राजिंदर सिंह बेदी रचित ‘क्वारंटीन’ कहानी प्रासंगिक हो उठती है| कुछ रचनाएँ जितनी सटीकता से उस काल की नब्ज पकड़ती हैं उतनी ही सटीकता से आने वाले समय की भी और इसी क्रम में वें कालजयी सिद्ध होने लगती हैं| विवेच्य कहानी ‘क्वारंटीन’ आज के दौर में शत - प्रतिशत खरी उतरती है| प्रतीत होता है कि यह हमकालीन दौर में ही लिखी गई है और वर्तमान समय से संवाद करने को लालायित है|
Download  |  Pages : 32-36
How to cite this article:
चेतन विष्णु रवेलिया. राजिंदर सिंह बेदी विरचित ‘क्वारंटीन’ कहानी का पुनर्पाठ. National Journal of Multidisciplinary Research and Development, Volume 6, Issue 2, 2021, Pages 32-36
National Journal of Multidisciplinary Research and Development National Journal of Multidisciplinary Research and Development