National Journal of Multidisciplinary Research and Development

National Journal of Multidisciplinary Research and Development


National Journal of Multidisciplinary Research and Development
National Journal of Multidisciplinary Research and Development
Vol. 4, Issue 4 (2019)

पर्यावरण सरंक्षण के लिए भारतीय संवैधानिक प्रावधानों का मुल्यांकन


सतीश कुमार

पर्यावरण प्रदुषण की समस्या विष्व के सामने एक बहुत बडी चिंता है। इसलिए विष्व के सभी देषों का यह कर्तव्य बनता है कि पर्यावरण प्रदुषण की समस्या का समाधान करें। भारत के संविधान में पर्यावरण सरंक्षण के लिए कई कानून बनाए गए है। संविधान में स्पष्ट रुप से उल्लेख किया गया हैं कि राज्य के निति निर्देषक तत्वों के द्वारा सरकार का यह कर्तव्य है कि वह पर्यावरण का सरंक्षण एंव संवर्धन करें तथा देष के वन व वन्य जीवों की रक्षा करें। मौलिक कर्तव्य के द्वारा नागरिकों का यह कर्तव्य है कि वह प्राकृतिक पर्यावरण जिसके अंतर्गत वन,झील,नदी व वन्य जीव की रक्षा ंऔर संवर्धन करे तथा प्राणी मात्र के प्रति दयाभाव रखें। प्रत्येक मनुष्य का नैतिक कर्तव्य बनता है कि वह प्रकृति की देखभाल करे क्योकि प्रकृति के साथ ही हमारा अस्तित्व है।
Pages : 32-34 | 1194 Views | 905 Downloads