National Journal of Multidisciplinary Research and Development


ISSN: 2455-9040

Vol. 1, Issue 4 (2016)

मध्यप्रदेश में कृषि उत्पादन एवं कृषि उत्पादकता का स्वरूप : एक अध्ययन

Author(s): संजीव कुमार खटीक
Abstract: भारत कृषकों का देश हैं। इस देश की लगभग 68 प्रतिशत आबादी आज भी कृषि कार्य में लगी हुई है। भारत एक विकासशील राष्ट्र है। किसी भी राष्ट्र को विकसित राष्ट्र तब कहा जा सकता है जब उस देश का आर्थिक, सामाजिक, राजनैतिक सभी प्रकार से विकास हुआ हो अर्थात् राष्ट्र में क्रांति का क्षेत्र काफी विस्तृत हो। भारत को विकसित राष्ट्र बनाने, भारतीय नागरिकों के जीवन स्तर को ऊँचा करने हेतु कृषि पर विशेष ध्यान देना होगा। भारतीय अर्थव्यवस्था का मुख्य आधार कृषि है, क्योकि राष्ट्र की आर्थिक संरचना में कृषि एक आधारभूत स्तंभ का उत्तरदायित्व निभाती है। कृषि भारतीय अर्थव्यस्था का सर्वप्रमुख व्यवसाय है। यह प्रदेश के कई उद्योगों के लिये कच्चे पदार्थ की आपूर्ति और कई उद्योगों के उत्पादन की माँग का आधार है। यह देश की दो तिहाई जनसंख्या की आजीविका का साधन और विभिन्न उत्पादक क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति के बाद का राष्ट्रीय सर्वाधिक राशि आय में योगदान करने वाला क्षेत्र है। प्रस्तुत शोध पत्र में मध्य प्रदेश में कृषि उत्पादन एवं कृषि उत्पादकता के स्वरूप का अध्ययन किया गया है।
Pages: 01-06  |  2756 Views  1004 Downloads
download hardcopy binder